Loading
नटवर सिंह बोले- शीला दीक्षित को पार्टी ने नहीं दिया सम्‍मान
HINDI NEWS18
Mon, 22 Jul 2019 20:41

नटवर सिंह बोले- शीला दीक्षित को पार्टी ने नहीं दिया सम्‍मान

HINDI NEWS18
Mon, 22 Jul 2019 20:41

नटवर सिंह और शीला दीक्षित करीब चार दशक तक दोस्‍त रहे हैं.

नटवर सिंह बोले- शीला दीक्षित को पार्टी ने नहीं दिया सम्‍मान

Ranjeeta Jha
| News18HindiUpdated: July 22, 2019, 8:41 PM IST

दिल्ली की पूर्व मु्यमंत्री शीला दीक्षित अब इस दुनिया में नहीं रही. लेकिन, राजनीतिक जीवन से लेकर चार दशक से ज्यादा समय तक उनके दोस्त रहे वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व विदेश मंत्री नटवर सिंह उन्हें कुछ इस तरह से याद कर रहे हैं.नटवर सिंह ने न्यूज़ 18 से बातचीत में कहा, अमूमन नेताओं को लोग पसंद नहीं करते, लेकिन शीला दीक्षित का व्यक्तित्व कुछ ऐसा था कि उनके विरोधी भी उनकी आलोचना करने से परहेज करते थे. एक नेता कैसा हो शीला दीक्षित उसकी मिसाल थीं. सौम्य और शालीन दिने वाली शीला जब राजनीतिक फैसले लेती थीं तो अपने विरोधियों को भी विश्वास में लेती थीं. पार्टी फोरम पर भी अगर उन्हें कोई बात पसंद नहीं आती थी तो शालीन ही सही लेकिन अपनी बात दृढ़ता से कहती थीं. आिरी वक्त तक भी वह पार्टी के प्रति वफादार रहीं.इस बात से नाराज हैं नटवर सिंहहालांकि नटवर सिंह ने नाराजगी जताते हुए ये भी कहा, पार्टी ने अंतिम समय में शीला दीक्षित के साथ अच्छा बर्ताव नहीं किया. 2017 में घर बैठ गयी शीला दीक्षित को उत्तर प्रदेश में मु्‍यमंत्री चेहरा बताकर वापस लेने के फैसले से वो दुःी थीं. बावजूद इसके जब 81 साल की उम्र में पार्टी ने उन्हें दिल्ली कांग्रेस की कमान देकर लोकसभा चुनाव लड़ने को कहा तो वो पीछे नहीं हटी.जबकि नटवर सिंह बताते हैं कि किस तरह से उन्होंने शीला दीक्षित को चुनाव लड़ने से मना किया, लेकिन शीला ने कहा कि वो क्या करें, पार्टी ने उन्हें चुनाव लड़ने के लिए कहा है.सभी पार्टियों में थी लोकप्रियतागौरतलब है कि दिल्‍ली की जिम्मेदारी मिलने से कुछ हफ्ते पहले शीला दीक्षित फ्रांस से ईलाज कराकर लौटी थीं. साथ ही उन्होंने कहा, जिस तरह से शीला दीक्षित को आिरी दिनों में दिल्ली के प्रभारी पीसी चाको ने अपमानित किया, तब सोनिया गांधी और राहुल गांधी को पूरे प्रकरण में हस्तक्षेप करना चाहिए था. दलगत राजनीति से उठकर जिस तरह से सभी राजनीतिक दलों के लोगों ने शीला दीक्षित को पहुंच कर श्रधांजलि दी और इसी से पता चलता है कि एक नेता के तौर पर उनकी श्सियत कैसी थी.कौन हैं नटवर सिंह?पंडित नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी के कार्याकाल तक नटवर सिंह कांग्रेस के बड़े नेताओं में गिने जाते थे. इंदिरा गांधी, राजीव गांधी और मनमोहन सिंह के यूपीए 1 में भी वो केंद्रीय मंत्री थे. वोल्कर मामले में आरोप लगने के बाद 88 साल के नटवर सिंह ने मनमोहन सिंह मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया, बाद में वो कांग्रेस से भी बाहर हो गए.ये भी पढ़ें- स्वच्छता अभियान पर कमेंट करना प्रज्ञा ठाकुर के लिए बना मुसीबत, जेपी नड्डा ने लगाई फटकार!वंदे मातरम को भी मिले राष्‍ट्रगान का दर्जा, BJP नेता ने दायर की दिल्‍ली हाई कोर्ट में PIL
Loading...
Indianews