Loading
LIVE: 'वायरल हो रहा है मेरा फर्जी इस्तीफा, पता नहीं कौन...'
HINDI NEWS18
Mon, 22 Jul 2019 21:53

LIVE: 'वायरल हो रहा है मेरा फर्जी इस्तीफा, पता नहीं कौन...'

HINDI NEWS18
Mon, 22 Jul 2019 21:53

कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली जनता दल सेक्यूलर-कांग्रेस गठबंधन सरकार की आज अग्निपरीक्षा है.

LIVE: 'वायरल हो रहा है मेरा फर्जी इस्तीफा, पता नहीं कौन...'
कुमारस्वामी सरकार आज फ्लोर टेस्ट देगी. विधानसभा की कार्यवाही शुरू हो चुकी है. विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार ने गठबंधन सरकार को बहुमत साबित करने के लिए शाम 6 बजे तक का वक्त दिया था. उनका कहना है कि सारी प्रक्रिया तय वक्त में पूरी होगी. विधानसभा स्पीकर ने ये भी बताया कि 16 बागी विधायक अगर सदन नहीं पहुंचते हैं, तो उन्हें गैरहाजिर माना जाएगा. हालांकि काफी उठापटक के बाद भी अभी तक कोई फैसला नहीं हो सका है. विधानसभा अध्यक्ष केआर रमेश कुमार का कहना है कि फ्लोर टेस्ट पूरा होने के बाद ही सदन की कार्यवाही भंग की जाएगी.इससे पहले कर्नाटक के संकटमोचक माने जाने वाले मंत्री डीके शिवकुमार ने गठबंधन सरकार बचाने के लिए आिरी दांव चला दिया है. बागी विधायकों को राजी करने के लिए सीएम कुमारस्वामी के स्थान पर किसी और मु्यमंत्री बनाया जा सकता है. डीके शिवकुमार का कहना है कि जेडीएस सरकार बचाने के लिए किसी भी तरह के त्याग के लिए तैयार है. इतना ही नहीं एचडी कुमारस्वामी की पार्टी कांग्रेस की ओर से किसी को मु्यमंत्री बनाने के लिए भी तैयार है. डीके शिवकुमार के मुताबिक, उन्होंने (JDS) इसके बारे में हमारे हाईकमान को भी बता दिया है.कुमारस्वामी को मिला मायावती का साथदूसरी ओर, बहुजन समाज पार्टी के कानूनविद् एन महेश ने कहा कि उनके आलाकमान ने उन्हें विश्वास प्रस्ताव के दौरान न रहने के लिए कहा है, इसलिए, उन्होंने सोमवार और मंगलवार को सत्र में भाग नहीं लेने का फैसला किया था. हालांकि, उनके बयान के कुछ घंटे बाद, बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट किया और कहा कि उन्होंने विधायक को  कुमारस्वामी की सरकार के पक्ष में मतदान करने का निर्देश दिया है.पढ़ें लाइव अपडेट्स:->>9:33 PM- मुझे जानकारी मिली कि मैंने राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया है. मुझे नहीं पता कि सीएम बनने का इंतजार कौन कर रहा है. किसी ने मेरे जाली हस्ताक्षर किए हैं और सोशल मीडिया पर उसी को वायरल किया जा रहा है. मैं पब्लिसिटी के चीप लेवेल से हैरान हूं.>>9:31 PM- विधायक एक बार फिर शोर मचाने लगे.अध्यक्ष केआर रमेश ने कहा अगर मैं यहां बिना कोई हस्तक्षेप किए बैठा हूं तो आपको समझना चाहिए. अगर इससे आपको ुशी मिलती है, तो इसे जारी रें. लोग दे रहे हैं. आप उन्हें दिाना चाहते हैं कि आप क्या हैं, आगे बढ़ें.>>9:24 PM- कांग्रेस विधायक एचके पाटिल ने कहा कल सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद ही इस मुद्दे पर बहस करना सही होगा. इस पर स्पीकर ने कहा मुझे एक ऐसे प्वाइंट पर मत ले जाइए, जहां मुझे आपसे बिना पूछे फैसला लेना होगा. इसके नतीजे विनाशकारी होंगे.>>9:20 PM- जेडीएस के विधायक एचडी रेवन्ना ने भाजपा नेता से सवाल किया, सुप्रीम कोर्ट में कौन गया? सुप्रीम कोर्ट ने क्या फैसला सुनाया? स्पीकर को फैसला करने की आजादी है. SC के समक्ष याचिका दायर कर आज शाम 5 बजे तक पूरी कार्यवाही करने को कहा? जो लोग आपका समर्थन करते हैं, ठीक है? ज़ीरो ट्रैफ़िक में किसने यात्रा की?>>9:14 PM- कहा जा रहा है सीएम एचडी कुमारस्वामी ने विधानसभा में अपनी मेज पर नकली इस्तीफा रा हुआ है.>>8:14 PM- फ्लोर टेस्ट में देरी के लिए कर्नाटक स्पीकर केआर रमेश ने कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन को फटकार लगाई और सदन छोड़ने की धमकी दी.>>7:58 PM-सुप्रीम कोर्ट कर्नाटक के दो निर्दलीय विधायकों की याचिका पर मंगलवार को सुनवाई करेगा, जिसमें मु्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी द्वारा दिए गए विश्वास प्रस्ताव पर राज्य विधानसभा में फ्लोर टेस्ट को तुरंत  की मांग की गई थी. मु्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने आज दिन में आर शंकर और एच नागेश की याचिका पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया.>>7:22 PM-  जहां भाजपा स्पीकर से आज ही फ्लोर टेस्ट कराने का आग्रह कर रही है, वहीं गठबंधन के सदस्यों ने नारे लगाते हुए कहा, हम न्याय चाहते हैं, हम चर्चा करना चाहते हैं>>7:11 PM- विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार बीजेपी नेता सुनील कुमार, बसावाराज बोम्मई, सीटी रवि और जेडीएस नेता सा रा महेश, एचडी रेवन्ना, बंदेप्पा, कशेमपुर के साथ अपने चेंबर में बैठक कर रहे हैं.>>6:57 PM- अराजकता की आशंका में, विधानसभा के बाहर भारी पुलिस भी तैनात किया गया है.>>6:37 PM- 10 मिनट के ब्रेक के बावजूद भी कोई विधायक विधानसभा से बाहर नहीं गया.>>6:21 PM- कर्नाटक विधानसभा स्पीकर ने घोषणा की है कि फ्लोर टेस्ट से पहले विधानसभा को निलंबित नहीं किया जाएगा. वह आधी रात तक इंतजार करने के लिए तैयार हैं क्योंकि वह चाहते हैं कि सभी परिस्थितियों में आज विश्वास मत हो जाए.>>5:59 PM- कर्नाटक गृह मंत्री एमबी पाटिल ने पुलिस आयुक्त के साथ आधिकारिक बैठक बुलाई है. ये बैठक बागी विधायकों को स्पीकर से मिलने के लिए बेंगलुरु वापस आते वक्त ज़ीरो ट्रैफ़िक दिए जाने के मामले के लिए हो रही है. जेडीएस के विधायक, एटी रामास्वामी ने आज विधानसभा में इस मामले को उठाया था.>>5:26 PM- जेडीएस के विधायक एटी रामास्वामी ने राज्य के गृह मंत्री एमबी पाटिल के बागी विधायकों को को लेकर दिए गए बयान के बाद विधानसौधा से बाहर निकल गए. रामास्वामी ने कहा था, अगर गृह मंत्री सदन के सामने स्पष्ट रूप से झूठ बोल रहे हैं, तो मैं यहां कैसे रह सकता हूं?>>5:20 PM- कांग्रेस विधायक एचके पाटिल ने कहा गृह मंत्री को इस बारे में फिर से जांच करने दें क्योंकि सभी ने देा है कि कैसे उन्हें ज़ीरो ट्रैफिक दिया गया है. एमबी पाटिल को अधिक जानकारी जुटानी होगी और उन्हें यह पता लगाना होगा कि अनुमति किसने दी.>>5:19 PM- विधान सभा में गृह मंत्री एमबी पाटिल ने कहा क्योंकि राज्यपाल ने हमें बागी विधायकों सुरक्षा प्रदान करने के लिए कहा था इसलिए हमने ऐसा किया. उन्हें जीरो ट्रैफिक मुहैया नहीं कराया गया.>>4:35 PM- बीजेपी के नेशनल जनरल सेक्रेटरी पी मुरलीधर राव ने कहा- कांग्रेस- जेडीएस गठबंधन संवैधानिक अधिकारों का हनन कर रहा है. लोकतंत्र की हत्या हो रही है. कोर्ट ने 15 बागी विधायकोंको अनुमति दी है कि वे वहां उपस्थित हों या न हों वे कर्नाटक सरकार के पास नहीं है वे अल्पसं्यक हैं.>>3:29 PM- स्पीकर केआर रमेश ने कहा हर मेंबर सिर्फ 10 मिनट तक बोलेगा.>>02:00 PM- फ्लोर टेस्ट से पहले बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने बड़ा दावा किया. एक चैनल से बात करते हुए उन्होंने कहा कि अभी 2-3 विधायक और भी इस्तीफा देंगे और बीजेपी ज्वाइन करेंगे. आज कुमारस्वामी सरकारा का आिरी दिन है.>>01:30 PM-कर्नाटक विधानसभा में बोलते हुए डीके शिवकुमार ने कहा कि बीजेपी को स्वीकार कर लेना चाहिए कि इस सबके पीछे वही है. उन्हें ये भी स्वीकार करना चाहिए कि वह बागी विधायकों के संपर्क में हैं और ऑपरेशन लोटस चला रहे हैं.>>12:43 PM- फ्लोर टेस्ट के लिए विधानसभा की कार्यवाही शुरू हो चुकी है. लेकिन, अभी तक बसपा विधायक एन. महेश सदन नहीं पहुंचे हैं. बता दें कि बसपा प्रमु मायावती ने अपने विधायक को कर्नाटक सरकार के हक में मतदान करने का आदेश दिया था, लेकिन अभी तक वह नहीं आए हैं.>>12:15 PM- कर्नाटक विधानसभा की कार्यवाही शुरू हो चुकी है. सभी विधायक सदन पहुंच चुके हैं. बागी विधायकों में से कोई भी अभी तक नहीं पहुंचा है.16 विधायकों का इस्तीफाबता दें  गठबंधन के 16 विधायकों में से 13 और जेडीएस के 3 विधायकों ने इस्तीफा दे दिया, जबकि निर्दलीय विधायकों आर शंकर और एच नागेश ने गठबंधन सरकार से अपना समर्थन वापस ले लिया.कांग्रेस के एक सदस्य रामलिंग रेड्डी ने कहा कि वह सरकार का समर्थन करेंगे. सत्तारूढ़ गठबंधन की ताकत 117 विधायकों की है जिसमें कांग्रेस 78, जद (एस) 37, बसपा 1, और अध्यक्ष के अलावा 1 नामित सदस्य है.दो निर्दलीय उम्मीदवारों के समर्थन के साथ, विपक्षी भाजपा के पास 225 सदस्यीय सदन में 107 विधायक हैं. यदि 15 विधायकों के इस्तीफे (कांग्रेस से 12 और जेडीएस से 3) स्वीकार किए जाते हैं या यदि वे मतदान में भाग नहीं लेते हैं.  तो सत्तारूढ़ गठबंधन की सं्या 101 हो जाएगी, (अध्यक्ष को छोड़कर) जिससे सरकार अल्पमत में आ जाएगी.मुश्किल में कुमारस्वामी सरकार
ये 4 विधायक बचा सकते कुमारस्वामी सरकारबागी विधायकों में बेंगलुरु क्षेत्र से आने वाले चार विधायक- एसटी सोमशेर, बी बासवराजू, एन मुनिरत्ना और रामलिंगा रेड्डी सबसे अहम माने जा रहे हैं. ऐसा कहा जा रहा है कि परमेश्वर से उनके निजी विरोध को सुलझाया जा सकता है. अगर ऐसा हुआ तो ये चार बागी विधायक बीजेपी की मदद करने से पीछे हट सकते हैं. कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि इन चार विधायकों को कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन सरकार से कोई दिक्कत नहीं है. परमेश्वरा से निजी ुन्नस के चलते इन्होंने इस्तीफा देने का कदम उठाया.यह भी पढ़ें: कर्नाटक संकट: शिवकुमार का नया दावा, कांग्रेस का होगा CMऐसे में इस बात के आसार हैं कि अगर डिप्टी सीएम परमेश्वरा इन चार विधायकों से बैठकर आपस में मामला सुलझा लेते हैं, तो उनका इस्तीफा शायद विधानसभा स्पीकर केआर रमेश कुमार द्वारा मंजूर करने की नौबत ही न आए. बता दें कि ये सभी विधायक कांग्रेस विधायक दल के नेता सिद्धारमैया के करीबी हैं.क्या है बहुमत का आंकड़ा? स्पीकर और मनोनीत सदस्यों को मिलाकर सदन की कुल सं्या 225 है. इसमें से 17 सदस्यों के सदन में शामिल नहीं होने की संभावना है. 17 में से 12 कांग्रेस के, 3 जेडी(एस) के विधायक हैं और 2 कांग्रेसी विधायक अस्पताल में भर्ती हैं. इस तरह अब सदन की सं्या 208 रह जाती है. बहुमत साबित करने के लिए 105 वोटों की जरूरत होगी.निर्दलीय विधायकों की याचिका आज नहीं सुनेगा SCनिर्दलीय विधायकों के द्वारा सुप्रीम कोर्ट में जो याचिका दायर की गई थी, उसपर आज सुनवाई से चीफ जस्टिस ने इनकार कर दिया है. बागी विधायकों के वकील मुकुल रोहतगी ने निर्दलीय विधायकों की तरफ से मामला उठाया तो CJI रंजन गोगोई ने साफ इनकार कर दिया. उन्होंने कहा, असंभव. आज सुनवाई नहीं हो सकती है. दरअसल, इन विधायकों ने विधानसभा में फ्लोर टेस्ट को जल्द करवाने की अपील की थी.स्पीकर ने बागी विधायकों को दिया कल पेश होने का आदेशबागी विधायकों को पेश होने का आदेश एक तरफ उम्मीद जताई जा रही है कि आज विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है तो दूसरी ओर स्पीकर ने बागी विधायकों के अयोग्यता वाले मामले में उन्हें मंगलवार को पेश होने को कहा है. स्पीकर ने 11 बागी विधायकों को चिट्ठी लि मंगलवार सुबह 11 बजे पेश होने को कहा है.नहीं कर रहा सत्ता में आने की कोशिश- कुमारस्वामीसुप्रीम कोर्ट से किसी तरह की राहत की उम्मीद में फ्लोर टेस्ट में देरी के लिए सरकार अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा को लंबा करने की कोशिश करने वाली बरों के बीच, कुमारस्वामी ने रविवार को कहा कि वह सत्ता में आने की कोशिश नहीं कर रहे हैं.उन्होंने एक बयान में कहा, विश्वास मत पर बहस के लिए समय मांगने का मेरा मकसद पूरे देश को यह बताना है कि भाजपा, जो नैतिकता की बात करती है, वह लोकतंत्र के साथ-साथ लोकतंत्र के बहुत सिद्धांतों को कैसे पलटने की कोशिश कर रही है.यह भी पढ़ें:  संकट में कर्नाटक सरकार, ज्योतिषियों और टोटकों के सहारे नेता
Indianews